ALL ब्रेकिंग क्षेत्रीय मध्यप्रदेश राजनीति देश विदेश अन्य राज्य स्वास्थ-शिक्षा-व्यापार धार्मिक-पर्यटन-यात्रा खेल-मनोरंजन विशेष आलेख
लघुकथा - मैं भी सिपाही : नीरज त्यागी
June 27, 2020 • BKK NEWS - बी.के.के. न्यूज़ (सम्पादक - राधेश्याम चौऋषिया) • विशेष आलेख

file photo 

          दादा जी इस कोरोना काल में हमने तो कोई भी देश के सिपाही की तरह काम नहीं किया और दूसरी तरफ हमारी सेना बॉर्डर पर दिन रात हमारे लिए काम करती है। 14 साल के राहुल ने बड़ी मासूमियत से यह सवाल अपने दादा जी से पूछा। राहुल के दादा जी ने बडी ही समझदारी से राहुल को समझाते हुए कहाँ कि बेटा बेशक हम सभी लोग घर पर रहे है। लेकिन कोरोना काल में हम सभी ने एक सिपाही की तरह ही काम किया है।

          राहुल ने अचंभे से अपने दादा जी से पूछा कि दादा जी हम तो घर में थे, फिर हमने ऐसा कब किया। दादा जी कहते है, बेटा तुम्हारा बड़ा भाई जो कि एक व्यापारी है उसने इस समय में अपना काम बंद कर घर में रहना उचित समझा क्योंकि गलत तरीकों से नकली सैनिटाइजर बनाकर अगर वह कुछ समय के लिए ज्यादा पैसा कमा भी लेता।लेकिन वह समाज के लिए एक बड़ा ही निंदनीय काम होता इसलिए तुम्हारा भाई भी एक सिपाही है जिसने घर में  रहकर बिना किसी को केमिकल नुकसान पहुचाये अपना समय व्यतीत किया।


file photo 

          वहीं तुम्हारी बडी बहन जो फैशन डिजाइनिंग का कोर्स कर रही है। उसने इस समय में घर पर रहकर 700-800 मास्क बनाकर समाज के जरूरतमंद लोगों को बांटे . एक तरीके से उसने भी भारत के लोगों के लिए एक सिपाही का ही काम किया है। तुम्हारी माँ ने भी समय-समय पर आसपास के कुछ गरीबों को खाना खिला कर उन्हें भूख से मरने से बचाया इसलिए उसने भी कहीं ना कहीं एक सिपाही का काम किया है। 


file photo 

          अरे तो दादा जी अब तो आप और हम ही रह गए जिन्होंने कोई भी काम देश के लिए नही किया। तभी दादा जी ने राहुल को बताया ऐसा नहीं है बेटा, मैं अपनी इस उम्र में बिना मतलब बाहर ना घूम कर घर में रहा और समय-समय पर अपना ध्यान करता रहा और तुमने भी इस समय में अपने खेलकूद का त्याग कर दिया इसलिए तुमने भी एक सिपाही का ही काम किया है क्योंकि तुम्हे ऐसा करते देख तुम्हारे सभी दोस्त भी घर में ही रह रहे है। अब राहुल अपने दादा जी की बात से संतुष्ट हो गया था।

नीरज त्यागी
ग़ाज़ियाबाद ( उत्तर प्रदेश ).

Bkk News

Bekhabaron Ki Khabar - बेख़बरों की खबर

Bekhabaron Ki Khabar, magazine in Hindi by Radheshyam Chourasiya / Bekhabaron Ki Khabar: Read on mobile & tablets - http://www.readwhere.com/publication/6480/Bekhabaron-ki-khabar